दूरियां

मैं भी रोया था उनसे मिलकर बहुत
वो मिल रहे थे बिछड़ने के लिऐ
न ढूंढने की कसम देकर
वो जा रहे थे जिंदगी भर के लिऐ
वो खत भी जलवा गए थे जाते जाते
जिसमे वादे किए थे उम्र भर के लिऐ

वो तेरा, वो मेरा, वो हमारा अब सब किसका है?
वो सब संजोया था किसके लिए
वक्त की आग ही ठंडक दे सके तो दे
फूंक गया मुसाफिर चलते चलते
आशियाना सजाया था जिसके लिए

Few Lines on my Dentist

चार दांतो पर चौंतीस चक्कर मैंने अब तक लगाए
फोर्सेप एक्सप्लोरर लेकर वो दांतो मे घुस जाए
सच में मिलने आता रहूंगा दांत चाहे ठीक हो जाए
हे देवी, थोड़ी सी कृपा करदो हम भी खाना चबा पाएं

—-

उसने चेहरा दूर से देखा तो उसे प्यार हो गया
तुम अंदर झांकती हो तुम्हारा क्या होगा


—- — —
मेरे दर्द को मुस्कुरा कर दूर कर सकते थे वो
मगर दांत को उखाड़ना उन्हें आसान लगा
मैं समझता था उन्हे मेरे दर्द से हमदर्दी है
उन्हे तो नोटों के आने का आगाज लगा


—-

वो एनेस्थीसिया जो दिया था तुमने दांतो मे
अब दिल में उतर गया है
तुम्हे देखता हूं तो सुन्न सा लगता है
ये प्यार नहीं तो क्या है


—-

ऐसी भी क्या जिद्द मिलने की
दर्द दिया और बुला लिया
एक मिटाया दो और दिए
तुम्ही बताओ दवा दी या मर्ज दिया


चलो चलता हूं, आता रहूंगा
चार निकले अठाईस बचे, उन्हे भी आपसे निकलवाता रहूंगा
-----

आज कल

तुमको तो पता है राते कैसे गुजर रही है आज कल
खुली आंखों में नींद बसर रही है आज कल


जानते हो तो बोलते क्यूं नहीं
अब और किससे झूठी तारीफ सुन रहे हो आज कल


देखना सुनना मुस्कुराना सब बीत गया
किसके फरेब में फस रहे हो आज कल


पास से निकल गए नजर चुरा कर
लगता है किसी नए से मिल रहे हो आज कल

इंतजार

सही वक्त के इंतजार में उम्र गुजार दी
लोगो ने बुरे वक्त में भी त्योहार सजा लिय


तुम ख्वाहिश करते रहे सच होने की
हमने झूठ को ही सच का फरमान मान लिया


नींद आंखों मे रही, ज़हन में न पहुंची
हमने करवट को ही नींद का एहसान मान लिया


खरखराहट सूखे पत्तों के हिलने की हुई
खामोशी को उनके आने का पैगाम मान लिया


हम तुम्हारे शांत होने का इंतजार करते रहे
तुमने शराफत को हीज्र ए निशां मान लिया

करवाचौथ

ए चांद निकल आना आज सुबह सुबह ही
क्यों इतने चांदो को है प्यासा रखता
क्यों डर नहीं तुझे इन प्यासी आहो का
निकल जल्दी तुझे चांदनी का वास्ता

पानी की बूंद भी आज कमाल करती है
वो पी ले तो हम निकले, ना पिए तो उम्रदराज करती है

तेरा वादा जान बचाने का सच्चा नही रहा
कितने वर्त रखती थी शहीद की बेवा भी
रखवाला जो सरहद का अब दुनिया में नहीं रहा

अगर तु उम्रदराजी की गारंटी दे पाए
रखेगा वर्त सारा देश, अब और शहीदी न जाए

गिला शिकवा शायरी

तुम्हे शिकवा मेरी मौजूदगी से है
ये लो हम गुमशुदा हो गए
मुस्कुराओ तुम अकेले हो अब
ऐसे क्यों गमज़दा हो गए

—— ****** ——-

कैसी तबियत है गुलिस्तां के फूल की, कांटे पत्तियां झाड़ कर जो मुस्कराना चाहता था
मिट्टी से दूर होकर साफ रहने की हवस, अकेला ही टहनी पर खिलखिलाना चाहता था
माली ने तोड़ कर रौंदा उसे बहुत, बगीचे को अवसाद की बिमारी बनाना चाहता था

—— ****** ——-

गजल तुम पर

ये जो पूरा का पूरा अधूरा छोड़ रहे हो
अनबने रिश्ते तोड रहे हो
नफरत घोसलो के तिनकों से है गर
तो सिर्फ तिनका निकालो, घोसला क्यों तोड रहे हो

जो मिला ही नहीं वो छोड़ दिया
अंगूर खट्टे है आखिर बोल ही दिया
हर बात में नुक्स देखने का हुनर
क्या तुमने भी आइना तोड़ दिया

खामोशी से देखता हूं तुमको आते जाते
हर बार कुछ नया ले ही जाते हो
तुमको लगता है गुजरते हो सड़क से
क्या बताएं ख्यालों में कितने चक्कर लगाते हो
धीमे कदम पास निकलते तेज लगते है
थम जाया करो जब यहां से जाते हो
वक्त के रुकने का अहसास हर बार होता है
जब जब तुम हल्के से नजरे मिलाते हो
अब समझा ला इलाहा को लैला वो क्यों कहता था
तुम भी सूरत ए खुदा से मेल जो खाते हो
धड़कने सांसे आंखे अहसास खामोशी हवा मिट्टी शब्द और कायनात
सब शून्य लगता है जब नजरो में गहरा जाते हो

एहसास और अल्फाज

बहुत समझाया था एहसासो को,
मत मिलो अल्फाजों से बिगड़ जाओगे

जब तक तन्हा हो महफूज हो तुम
अल्फाज बन गए तो रोड पर आ जाओगे

मेरे निजी हो तो चहकते रहते हो ख्यालों में सारा दिन
महफिल ए आम हो गए तो ये प्यार कहां पाओगे

कोई तोड़ेगा, मुंह मोड़ेगा, हसेगा तुम पर
एक वाह के लिए कई बार पढ़े जाओगे

गर पा भी लोगे शोहरत थोड़ी सी,
मेरे होकर भी दुनिया के कहलाओगे

अल्फाज परवाना है शमा ए शायरी का
काफिये के जुनून में हर बार जलाये जाओगे

Khwaab

ऐ ख्वाब कभी दिन मे भी आया करो
आंखे भी तो जाने की तु दिखता क्या है

निकलते नही जागकर देखे सपने
आंसु पूछते है आंखो  मे रड़कता क्या हैं

तेरी  पलको की झलक जब याद आती हैं
मेरी पलको मे फडकता क्या हैं

मेरे ख्वाब कभी उनकी नींद मे भी हो आया कर
वो भी तो जाने हमारा रिश्ता क्या है

—+++++

नजरे झुका कर् जो चुपचाप चला गया
खुशगवार वक़्त का वो एक गुमनाम सपना हैं

गुरबत ए इश्क  को छोड उसने रईस चुना
सिक्को के ढेर मे वो कमजर्फ कितना हैं

सपनो और यादो मे सिर्फ फर्क इतना हैं
एक जीने की ख्वाहिश हैं, दुजा जीया हुआ सपना हैं

read more at my blog Sharad Prinja at TheNavRas.com